देखें तुझे देकर, मैने सपने अपने रे

Hindi Poem

देखें तुझे देकर, मैने सपने अपने रे,
पाया ना मैने वो, जो चाहा मन ने रेे,
अब कैसे तुझे मै समझाऊं रे,
मेरे प्यारे पिया, अंखियां यूं रो-रो पड़े..

चला गया वो सावन रे, मेरी आंखो से रूठा,
चला गया वो भादौ भी, तेरी राहों में छूटा,
अब कैसे तुझे मै समझाऊं रे,
मेरे प्यारे पिया, अंखियां यूं रो-रो पड़े…

वो तान जो मुरली की, तूने हमें सुनाई थी,
वो प्रीत जो अधरो की, तूने हमें बताई थी,
अब कैसे तुझे मै समझाऊं रे,
मेरे सवारियां, सखियां यूं रो-रो पड़े…

हे! कान्हा तूने हमको, जो रास दिखाया है,
वो रास नहीं प्यारे, तेरी प्रेम की छाया है,
अब लौट के आजा, कान्हा मेरे ,
मेरे सवारियां, सखियां यूं रो-रो पड़े…

– प्रयास गुप्ता।।


Also Read→ मै मुस्कुरा देता हूँ

Previous articleएक्सीडेंट
Next articleTop 50 Heart Touching Sad Status in Hindi with Images
PRAYAS GUPTA LIFE = LEARNING I HAVE AN ATTITUDE AND I KNOW HOW TO USE IT HINDI LITERATURE

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here