Emotional Intezaar Shayari / इमोशनल इंतज़ार शायरी

Emotional Intezaar Shayari / इमोशनल इंतज़ार शायरी अगर आप इमोशनल शायरी ढूंढ रहे हो और आप कहते हो की आपको इमोशनल या फिर इंतज़ार शायरी नहीं मिल रही है और आप चाहते हो की आप को आसानी से आपकी पसंद की शायरिया मिल जाये तो आपको बिलकुल भी परेशानी नहीं होयगी और अभूत ही आसानी से आपकी पसंद से भी ज़ादा बेहतरीन शायरी आपको यहाँ मिलने वाली है क्यू की हम समझते है की आज के इस वक़्त में 95% हमारे दोस्त इमोशनल हो जाते है किसी ना किसी बात पर और वो फिर यही कहते है की उनको कुछ ऐसा मिले जिसको वो शेयर कर कर अपने दोस्तों को या फिर अपने चने वालो को बता सके की वो इमोशनल है ऐसे डारेक्ट किसी को बोना सही नहीं लगता और अपनी इंसल्ट लगती है तो ऐसे में बस एक शायरी ही ऐसी चीज़ है जिस से हम अपनी बात भी बोल देते है और कोई भी परेशानी वाली नहीं पड़ती है और हमारी बात भी सामने वाले तक भी पोहच जाती है अगर आप को अपने दिल की बात किसी अपने तक पोहचानी है शायरी के ज़रिये से हमारी पोस्ट पर आपके लिए बहुत शायरिया है

Emotional Intezaar Shayari / इमोशनल इंतज़ार शायरी

Emotional Intezaar Shayari

फरियाद कर रही है यह तरसी हुई निगाह,
देखे हुए किसी को ज़माना गुजर गया।

ये कह-कह के हम दिल को समझा रहे हैं,
वो अब चल चुके हैं वो अब आ रहे हैं।

वो तारों की तरह रात भर चमकते रहे,
हम चाँद से तन्हा सफ़र करते रहे,
वो तो बीते वक़्त थे उन्हें आना न था,
हम यूँ ही सारी रात करवट बदलते रहे।

उल्फ़त के मारों से ना पूछो आलम इंतज़ार का,
पतझड़ सी है ज़िन्दगी और ख्याल है बहार का।

एक लम्हे के लिए मेरी नजरों के सामने आजा,
एक मुद्दत से मैंने खुद को आईने में नहीं देखा।

मुझको अब तुझ से मोहब्बत नहीं रही,
ऐ ज़िन्दगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही,
बुझ गये अब उसके इंतज़ार के वो दीये,
कहीं आस-पास भी उस की आहट नहीं रही।

ये इंतज़ार न ठहरा कोई बला ठहरी,
किसी की जान गई आपकी अदा ठहरी।

कब आ रहे हो मुलाकात के लिये,
हमने चाँद रोका है एक रात के लिये।

राह चलते तू औरों का दामन थाम ले,
मगर मेरे प्यार को भी तू थोड़ा पहचान ले,
कितना इंतज़ार किया है तेरे इश्क़ में मैंने,
जरा इस दिल की बेताबी को भी तू जान ले।

खुद हैरान हूँ मैं
अपने सब्र का पैमाना देख कर,
तूने याद भी ना किया
और मैंने इंतज़ार नहीं छोड़ा।

इमोशनल इंतज़ार शायरी

Emotional Intezaar Shayari

इंतज़ार रहता है हर शाम तेरा,
यादें कटती हैं ले ले कर नाम तेरा,
मुद्दत से बैठे हैं यह आस पाले,
कि कभी तो आएगा कोई पैगाम तेरा।

इक मैं कि इंतज़ार में घड़ियाँ गिना करूँ,
इक तुम कि मुझसे आँख चुराकर चले गये।

उसे भुला दे मगर इंतज़ार बाकी रख,
हिसाब साफ न कर कुछ हिसाब बाकी रख।

आँखों को इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया,
चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया,
दिन की वो महफिलें गईं रातों के रतजगे गए,
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।

आँखों ने जर्रे-जर्रे पर सजदे लुटाये हैं,
न जाने जा छुपा मेरा पर्दानशीं कहाँ।

पलकों पर रूका है समन्दर खुमार का,
कितना अजब नशा है तेरे इंतजार का।

उसी तरह से हर एक ज़ख्म खुशनुमा देखे,
वो आये तो मुझे अब भी हरा-भरा देखे,
गुजर गए हैं बहुत दिन रफाकत-ए-शब में,
एक उम्र हो गई चेहरा वो चाँद-सा देखे।

मुझे हर पल तेरा इंतज़ार रहता है,
हर लम्हा मुझे तेरा एहसास रहता है,
तुझ बिन धडकनें रुक सी जाती हैं,
कि तू दिल में धड़कन बनके रहता है।

एक आरज़ू है पूरी अगर परवरदिगार करे,
मैं देर से जाऊं और वो मेरा इंतज़ार करे।

उठ-उठ के किसी का इंतज़ार करके देखना,
कभी तुम भी किसी से प्यार करके देखना।

Emotional Intezaar Shayari

Emotional Intezaar Shayari

आदतन तुमने कर दिये वादे,
आदतन हमने भी ऐतबार किया,
तेरी राहों में हर बार रुककर,
हमने अपना ही इंतजार किया।

कुछ बातें करके वो हमें रुला के चले गए,
हम न भूलेंगे यह एहसास दिला के चले गए,
आयेंगे कब वो अब तो यह देखना है उम्र भर,
बुझ रही है आग जिसे वो जला कर चले गए।

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हमको भी इंतज़ार दिखे।

किसी रोज़ होगी रोशन मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नहीं तेरे लौट आने का है।

ये जो पत्थर है आदमी था कभी,
इस को कहते हैं इंतज़ार मियां।

रात क्या होती है हमसे पूछिए,
आप तो सोये सवेरा हो गया।

हर आहट पर साँसें लेने लगता है,
इंतज़ार भी भला कभी मरता है।

बस यूँ ही उम्मीद दिलाते हैं ज़माने वाले,
लौट के कब आते हैं छोड़ कर जाने वाले।

हालात कह रहे हैं मुलाकात नहीं मुमकिन,
उम्मीद कह रही है थोड़ा इंतज़ार कर।

आप करीब ही न आये इज़हार क्या करते,
हम खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
साँसे साथ छोड़ गयीं पर खुली रखी आँखें,
इस से ज्यादा किसी का इंतज़ार क्या करते।

Top Emotional Shayari

Emotional Intezaar Shayari

बेखुदी ले गई कहाँ हमको,
देर से इंतज़ार है अपना,
रोते फिरते हैं सारी-सारी रात,
अब यही बस रोज़गार है अपना।

कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर,
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर,
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह,
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर।

टूट गया दिल पर अरमान वही है,
दूर रहते हैं फिर भी प्यार वही है,
जानते हैं कि मिल नहीं पायेंगे,
फिर भी आँखों में इंतज़ार वही है।

अब तेरी मोहब्बत पर मेरा हक तो नहीं सनम,
फिर भी आखिरी साँस तक तेरा इंतजार करेंगे।

दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के,
न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है।

उनका भी कभी हम दीदार करते थे,
उनसे भी कभी हम प्यार करते थे,
क्या करे जो उनको हमारी जरुरत न थी
पर फिर भी हम उनका इंतज़ार करते थे।

तमाम उम्र तेरा इंतज़ार कर लेंगे,
मगर ये रंज रहेगा कि ज़िन्दगी कम है।

इक रात वो गया था जहाँ बात रोक के,
अब तक रुका हुआ हूँ वहीं रात रोक के।

तमाम उम्र यूँ ही हो गयी बसर अपनी,
शबे-फिराक गयी, रोजे-इंतज़ार आया।

चले भी आओ तसव्वर में मेहरबां बनकर,
आज इंतज़ार तेरा दिल को हद से ज्यादा है।

Emotional Intezaar Shayari

Emotional Intezaar Shayari

यकीन है कि ना आएगा इस से मिलने कोई,
तो फिर इस दिल को मेरे इंतज़ार किसका है।

जीने की ख्वाहिश में हम रोज़ मरते हैं,
वो आये न आये मगर इंतज़ार करते हैं,
झूठा ही सही पर मेरे यार का वादा है,
हम सच मान कर ऐतबार करते हैं।

किश्तों में खुदकुशी कर रही है ये जिन्दगी,
इंतज़ार तेरा मुझे पूरा मरने भी नहीं देता।

वो कह कर गया था कि लौटकर आएगा,
मैं इंतजार ना करता तो और क्या करता,
वो झूठ भी बोल रहा था बड़े सलीके से,
मैं एतबार ना करता तो और क्या करता।

कुछ रोज़ ये भी रंग रहा तेरे इंतज़ार का,
आँख उठ गई जिधर बस उधर देखते रहे।

उनकी उदास आँखों में करार देखा है,
पहली बार उन्हें ऐसे बेकरार देखा है,
जिन्हें खबर ना होती थी मेरे आने की,
उनकी आँखों में अब इंतज़ार देखा है।

तुम से मिलना तो एक ख्वाब सा लगता है,
मैने तुम्हारे इंतजार से मोहब्बत की है।

तुम आए हो न, शब-ए-इंतजार गुजरी है,
तलाश में है सहर, बार बार गुजरी है।

मुझे यकीन है वो राह देखता तो होगा,
मैं सोचता हूँ मगर सोचने से क्या होगा।

उसे भुला भी दिया और याद भी रखा उसको,
नशा उतार दिया और खुमार रहने दिया,
कोई ख्वाब दिखाया न कोई गम दिया उसको,
उसकी आँखो में बस एक इंतजार रहने दिया।

Duri Ka Ahsas Kuch You Hota Hai

Emotional Intezaar Shayari

मौत बख्शी है जिसने उस मोहब्बत की कसम,
अब भी करता हूँ इंतज़ार बैठकर मजार में।

रात देर तक तेरी दहलीज पर बैठी रहीं आँखें,
खुद न आना था तो कोई ख्वाब ही भेज दिया होता।

नहीं छोड़ सकते हम दूसरों के हाथ में तुमको,
वापस लौट आओ न कि हम अभी तक तुम्हारे हैं।

फिर आज कोई ग़ज़ल तेरे नाम न हो जाये,
कहीं लिखते-लिखते शाम न हो जाये,
कर रहे हैं इंतज़ार तेरी मोहब्बत का,
इसी इंतज़ार में ज़िन्दगी तमाम न हो जाये।

चले भी आओ कि हम तुमसे प्यार करते हैं,
ये वो गुनाह है जो हम बार-बार करते हैं,
लोग मौत तक तकते हैं राह दिलदार की,
हम हैं कि क़ब्र में भी तेरा इंतज़ार करते हैं।

एक मुद्दत से चिरागों की तरह जलते हैं,
इन तरसती हुई आँखों को बुझा दे कोई।

लूटे मज़े उसी ने तेरे इंतज़ार के,
जो हद-ए-इंतज़ार से आगे निकल गया।

इस उम्मीद पे रोज़ चिराग़ जलाते हैं,
कि आने वाले बरसों बाद भी आते हैं

ऐ मौत उन्हें भुलाए ज़माने गुजर गए,
आ जा कि ज़हर खाए ज़माने गुजर गए,
ओ जाने वाले आ कि तेरे इंतजार में,
रास्ते को घर बनाए ज़माने गुजर गए।

दिन भर भटकते रहते हैं अरमान तुझसे मिलने के,
न ये दिल ठहरता है न तेरा इंतज़ार रुकता है।

Ishaq To Humesha Hee Sachha Hota hai

ishq o humesha

किन लफ्जों में लिखूँ मैं अपने इंतज़ार को तुम्हें,
बेजुबां है इश्क़ मेरा ढूंढ़ता है खामोशी से तुझे।

वो न आएगा हमें मालूम था इस शाम भी,
इंतज़ार उस का मगर कुछ सोच कर करते रहे।

आँखों ने जर्रे-जर्रे पर सजदे लुटाये हैं,
क्या जाने जा छुपा मेरा पर्दानशीं कहाँ।

हर आहट पर साँसें लेने लगता है,
इंतज़ार भी भला कभी मरता है।

ये जो पत्थर है आदमी था कभी,
इस को कहते हैं इंतज़ार मियां।

हालात कह रहे हैं मुलाकात नहीं मुमकिन,
उम्मीद कह रही है थोड़ा इंतज़ार कर।

आँखें रहेंगीं शाम-ओ-शहर मुन्तज़िर तेरी,
आँखों को सौंप देंगे तेरा इंतज़ार हम।

चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया,
दिन की वो महफिलें गईं रातों के रतजगे गए,
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।

मेरे दिल की उम्मीदों का हौसला तो देखो,
इंतज़ार उसका है जिसे मेरा एहसास तक नहीं।

आधी से ज्यादा शबे-ग़म काट चुका हूँ,
अब भी अगर आ जाओ तो ये रात बड़ी है।

Rishwat Leta Pakda Gaya Aaina

aaina aaj fir

जान देने का कहा मैंने तो हँसकर बोले,
तुम सलामत रहो हर रोज के मरने वाले,
आखिरी वक़्त भी पूरा न किया वादा-ए-वस्ल,
आप आते ही रहे मर गये मरने वाले।

बस यूँ ही उम्मीद दिलाते हैं ज़माने वाले,
कब लौट के आते हैं छोड़ कर जाने वाले।

दिल जलाओ या दिए आँखों के दरवाज़े पर,
वक़्त से पहले तो आते नहीं आने वाले।

रात भर जागते रहने का सिला है शायद,
तेरी तस्वीर सी महताब में आ जाती है।

न कोई वादा न कोई यक़ीं न कोई उम्मीद,
मगर हमें तो तेरा इंतज़ार करना था।

तमाम रात मेरे घर का एक दर खुला रहा,
मैं राह देखता रहा वो रास्ता बदल गया।

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ़,
किसी की आँख में हमको भी इंतज़ार दिखे।

किसी रोज़ होगी रोशन मेरी भी ज़िंदगी,
इंतज़ार सुबह का नहीं तेरे लौट आने का है।

पलकों पर रूका है समन्दर खुमार का,
कितना अजब नशा है तेरे इंतजार का।

एक अजनबी से मुझे इतना प्यार क्यूँ है,
इन्कार करने पर चाहत का इकरार क्यूँ है,
उसे पाना नहीं मेरी तकदीर में शायद,
फिर भी हर मोड़ पर उसका इंतजार क्यूँ है।

Kuch Aese Log Bhi milte Hai

zindagi me kuch

आदतन तुमने कर दिये वादे,
आदतन हमने भी ऐतबार किया,
तेरी राहों में हर बार रुककर,
हमने अपना ही इंतजार किया।

मेरी इक उमर कट गई है तेरे इंतज़ार में,
ऐसे भी हैं कि कट न सकी जिनसे एक रात।

अब तेरी मोहब्बत पर मेरा हक तो नहीं सनम,
फिर भी आखिरी साँस तक तेरा इंतजार करेंगे।

आप करीब ही न आये इज़हार क्या करते,
हम खुद बने निशाना तो शिकार क्या करते,
साँसे साथ छोड़ गयीं पर खुली रखी आँखें,
इस से ज्यादा किसी का इंतज़ार क्या करते।

मुझे हर पल तेरा इंतज़ार रहता है,
हर लम्हा मुझे तेरा एहसास रहता है,
तुझ बिन धडकनें रुक सी जाती हैं,
कि तू दिल में धड़कन बनके रहता है।

तड़प के देख किसी की चाहत में,
तो पता चले कि इंतज़ार क्या होता है,
यूँ मिल जाए अगर कोई बिना तड़प के,
तो कैसे पता चले कि प्यार क्या होता है

कभी ख़ुशी से ख़ुशी की तरफ नहीं देखा,
तुम्हारे बाद किसी की तरफ नहीं देखा,
ये सोच कर कि तुम्हारा इंतजार लाजिम है,
तमाम उम्र घड़ी की तरफ नहीं देखा।

कोई मिलता ही नहीं हमसे हमारा बनकर,
वो मिले भी तो एक किनारा बनकर,
हर ख्वाब टूट के बिखरा काँच की तरह,
बस एक इंतज़ार है साथ सहारा बनकर।

आँखें भी मेरी पलकों से सवाल करती हैं,
हर वक़्त आपको ही बस याद करती हैं,
जब तक ना कर लें दीदार आपका,
तब तक वो आपका इंतज़ार करती हैं।

ग़जब किया तेरे वादे पर ऐतबार किया,
तमाम रात किया क़यामत का इंतज़ार किया।

देखा न होगा तू ने मगर इंतज़ार में,
चलते हुए वक़्त को ठहरते हुए भी देख।

हम उम्मीद करते है की आप ने हमारी इस पोस्ट में जो भी शायरी है उनका पूरा लुत्फ़ लिया होगा और आपको हमारी ये शायरी अच्छी लगी होंगी ऐसे ही आपके लिए और भी बहुत शायरिया हम हमारी इस साइट पर आप को बस हमारे इस लिंक पर किलिक करना है आपको हम एक से एक बेहतरीन शायरिया देने का काम करते रहेंगे किलिक कीजिये इस लिंक को 100+ Motivational Status in Hindi 

Leave a Comment