हे प्रकृति ! करवट बदल… – नम्रता शुक्ला

namrata shukla poetry

मानव फिर बन सके सबल
हे प्रकृति!
करवट बदल।

अपने अपनो से मिल पाएं।
वो चेहरे
जो नकाब के पीछे हैं,
पहले की तरह ही खिल जाएं।।
अब ख्वाब किसी के टूटें न
जो फर्ज बचे हैं, छूटे न।
जीवन फिर हो सके सफल।
हे प्रकृति!
करवट बदल।

अब
कोई बेटी माँ से दूर न हो।
बिन माँ का जीवन जीने पर,
फिर कोई मजबूर न हो।।
पत्नि का सुहाग बचा रहे।
मां-बाप का साया सदा रहे।।
अब कह भी दे
कब तक देगी?
मानव की खुशियों में दखल।
हे प्रकृति!
करवट बदल।

दुआएँ कर दें असर
स्वस्थ हो अब हर वसर।
थम जाए मौतों का क़हर
बेखौफ हो जाएं शहर।।
अब प्रयास न हों विफल।
हे प्रकृति!
करवट बदल।

अब थकी सी शाम न हो
यूँ हर सुबह परेशान न हो।
चारों तरफ
खुशी की धूप खिले
फिर धरती शमशान न हो।।
कर दे न तू भी एक पहल।
हे प्रकृति!
करवट बदल..!

~ नम्रता शुक्ला


यह भी पढ़े→

Previous articleगुस्ताखियां..! – नम्रता शुक्ला
Next articleचल आगे बढ़ – प्रयास गुप्ता
मैं नीरज यादव इस वैबसाइट (ThePoetryLine.in) का Founder और एक Computer Science Student हूँ। मुझे शायरी पढ़ना और लिखना काफी पसंद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here