Mera Pani Meri Virasat Yojana 2023: ऑनलाइन आवेदन और सम्पूर्ण जानकारी

Mera Pani Meri Virasat Yojana हरियाणा सरकार द्वारा राज्य के किसानों की आय बढ़ाने के लिए मेरा पानी मेरी विरासत योजना शुरू की गई है। इस योजना के तहत मनोहर लाल खट्टर किसानों को धान के अलावा अन्य वैकल्पिक फसलें उगाने पर प्रति एकड़ 7000 रुपये की प्रोत्साहन राशि देंगे. यदि आप भी हरियाणा के किसान हैं और मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत लाभ प्राप्त करना चाहते हैं तो आप इस योजना के तहत ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। राज्य सरकार मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत किसानों से पंजीकरण/आवेदन पत्र आमंत्रित कर रही है। मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत धान की खेती से लेकर मक्का, अरहर, कपास, उड़द, बाजरा, तिल, ग्वार आदि अन्य फसलों की सिंचाई के लिए सरकार प्रति एकड़ 7000 रुपये की प्रोत्साहन राशि दे रही है. आज हम आपको इस लेख के माध्यम से Mera Pani Meri Virasat Yojana 2023 से संबंधित पूरी जानकारी प्रदान करेंगे।

Aadhaar Card Link with UAN

Mera Pani Meri Virasat Yojana

हरियाणा सरकार ने ‘मेरा पानी मेरी विरासत योजना’ की शुरुआत की है। इस योजना के अंतर्गत राज्य के किसानों को धान की खेती के अलावा अन्य फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। सरकार द्वारा इसके तहत किसानों को मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, तिल, कपास आदि की खेती पर प्रति एकड़ 7000 रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी। इस योजना के पहले चरण में, 19 प्रखंडों को शामिल किया गया है, क्योंकि हरियाणा में कई क्षेत्र हैं जहां धान की खेती के लिए पानी की कमी होती है। इसके परिणामस्वरूप, वहां के किसानों को धान की बजाय अन्य वैकल्पिक फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।

UP Kanya Vidya Dhan Yojana

Mera Pani Meri Virasat Yojana 2023 Key Highlights

योजना का नाममेरा पानी मेरी विरासत योजना 
शुरू की गईमुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी के द्वारा 
लाभार्थीराज्य के किसान 
उद्देश्यधान के अतिरिक्त अन्य फसलों की बुवाई के लिए प्रोत्साहन करना
लाभ7000 की प्रोत्साहन राशि 
श्रेणीहरियाणा सरकारी योजनाएं 
राज्यहरियाणा 
साल2023 
आवेदन प्रक्रियाऑनलाइन 
अधिकारिक वेबसाइटhttps://agriharyana.gov.in/Default 

Mera Pani Meri Virasat Yojana का उद्देश्य

हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर जी ने ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ योजना की शुरुआत की है, जिसका मुख्य उद्देश्य है किसानों को धान की बजाय मक्का, दाल, और तिलहन जैसी फसलें उगाने के लिए प्रेरित करना। इस उद्देश्य को साधते हुए, सरकार ने इस योजना के तहत किसानों को प्रति एकड़ ₹7000 की सहायता राशि प्रदान करने का निर्णय लिया है। धान की फसल को उगाने में अधिक पानी का खर्च होता है, और कुछ क्षेत्रों में पानी की कमी के कारण इसकी पूर्णता संभावना होती है। इसलिए, सरकार ने मुख्यमंत्री के नेतृत्व में मक्का, दाल, और तिलहन जैसी फसलों की खेती को प्रोत्साहित करने के लिए कदम उठाया है। इस योजना के अंतर्गत, किसानों को सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली प्रोत्साहन राशि को दो किस्तों में समर्थन पहुंचाया जाएगा।

Ayushman Card Bimari List

800 किसानों ने कराया योजना के अंतर्गत आवेदन

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत, अब तक 800 किसानों ने अपना पंजीकरण पूरा कर लिया है है। इसका अर्थ है कि इस योजना के माध्यम से इस वर्ष हरियाणा में कुल 900 एकड़ भूमि पर धान की फसल नहीं उगाई जाएगी। किसान अब धान की खेती को छोड़कर मक्का, चारा, उड़द, सब्जियां, कपास आदि की खेती कर सकेंगे। इस योजना के तहत पंजीकरण करने पर, हरियाणा सरकार द्वारा किसानों को प्रति एकड़ पर 7000 रूपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी। इसके साथ ही, यह योजना राज्य में 40% पानी की बचत करेगी, जो एक महत्वपूर्ण पर्यावरण संरक्षण कदम है। अगर आप भी इस योजना का लाभ उठाना चाहते हैं, तो आपको जल्दी से जल्दी इस योजना के तहत आवेदन करना चाहिए।

Mera Pani Meri Virasat Yojana की विशेषताएं

  • हरियाणा सरकार ने ‘मेरा पानी मेरी विरासत योजना’ की शुरुआत की है, जिसका उद्देश्य राज्य में किसानों को धान की खेती के अलावा अन्य विकल्पित खेती के लिए प्रोत्साहित करना है। इस योजना के अंतर्गत, सरकार द्वारा किसानों को आर्थिक सहायता राशि भी प्रदान की जाएगी। ‘मेरा पानी मेरी विरासत योजना’ के तहत उन सभी क्षेत्रों में जहां भूमिगत जलस्तर कम है, वहां के किसानों को अन्य फसलों की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा।
  • इस योजना के माध्यम से ‘मेरा पानी मेरी विरासत’ ने जल संरक्षण को बढ़ावा देने का मिशन भी लिया है। किसानों को धान के स्थान पर मक्का, अरहर, मूंग, उड़द, कपास, तिल, सब्जियां आदि की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा, जिस पर सरकार द्वारा प्रति एकड़ 7000 रुपए की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।
  • इस योजना के अंतर्गत चयनित 19 ब्लॉकों के बावजूद, अन्य ब्लॉकों के किसान भी इस अनुदान के लिए आवेदन कर सकते हैं।

Ladli Behna Awas Yojana List 

Mera Pani Meri Virasat Yojana के तहत प्रोत्साहन

  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के अंतर्गत, किसानों को पर्याप्त नमी के आधार पर मक्का खरीद के दौरान मंडियों में मक्का खरीदने के लिए मशीनें लगाई जाएगी। यह योजना राज्य में धान के स्थान पर दाल, कपास, मक्का, बाजरा, सब्जियां, आदि की अन्य वैकल्पिक फसलों की खेती को बढ़ावा देने का उद्देश्य रखती है।
  • राज्य के वह किसान जो संपूर्ण होने के 50% या उससे अधिक भूमि पर धान के स्थान पर दाल, कपास, मक्का, बाजरा, सब्जियां, आदि उगाते हैं, उन्हें सरकार द्वारा प्रति एकड़ 7000 रुपए की धनराशि प्रदान की जाएगी। यह प्रोत्साहन राशि उन किसानों को ही मिलेगी जिन्होंने पिछले साल धान के रकबे (खरीफ 2019-20) के 50 फीसदी या इससे अधिक रकबे में फसल विविधीकरण को अपनाया है।
  • फसल विविधीकरण करने वाले किसानों को उद्योन विभाग द्वारा चलाई जा रही परियोजनाओं के लिए अनुदान दिया जाएगा। सरकार न्यूनतम मूल्य समर्थन मूल्य पर बाजरा, मक्का, दलिया, आदि खरीदेगी, जिससे किसानों को उचित मूल्य मिलेगा।
  • इस योजना के तहत बुआई के लिए चयनित ब्लाकों में मक्का बुआई मशीनों पर सरकार द्वारा किसानों को 40% का अनुदान प्रदान किया जाएगा। फसल विविधीकरण के लिए लघु सिंचाई संयंत्र स्थापित करने के लिए किसानों को केवल जीएसटी ही चुकानी होगी। सरकार द्वारा बनाई गई फसल के बीमित राशि का योग भी सरकार द्वारा दिया जाएगा।

Mukhyamantri Tirth Yatra Yojana 

Mera Pani Meri Virasat Yojana के लाभ

  • हरियाणा सरकार द्वारा किसानों को ‘मेरा पानी मेरी विरासत योजना’ का लाभ पहुंचाने का निर्णय लिया गया है। इस योजना के अंतर्गत, मक्का, उड़द, तिल, मूंग, कपास, और सब्जी जैसी फसलों की खेती की जाएगी और इन फसलों की खरीद न्यूनतम समर्थन मूल्य पर की जाएगी।
  • किसानों को इस योजना के तहत प्रोत्साहन प्राप्त करने के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करना होगा। योजना के तहत, उन किसानों को धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी जिनके पास पिछले साल धान की खेती नहीं हुई थी।
  • किसानों को इस योजना के अंतर्गत मक्का और दालों की खेती में आवश्यक बुवाई, सूष्म सिंचाई, और ड्रिप सिंचाई के लिए 80% का अनुदान प्रदान किया जाएगा। इसके अलावा, जिन किसानों ने फसल विविधीकरण के तहत फसल का बीमा कराया है, उन्हें सरकार द्वारा भुगतान की राशि भी प्रदान की जाएगी।

Mera Pani Meri Virasat Yojana मुख्य तथ्य

  • मेरा पानी मेरी विरासत योजना के तहत किसानों को उन खेतों में खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी जिनमें पिछले वर्ष धान की खेती नहीं हुई थी। इसके साथ ही, वह किसान जिनकी ट्यूबवेल 50 हॉर्स पावर इलेक्ट्रिसिटी मोटर चल रही है, उनको धान की खेती करने की अनुमति नहीं दी जाएगी। ग्राम पंचायत जहां पर जिला स्तर 35 मीटर गहरा है, वहां पर भी धान की खेती नहीं की जाएगी।
  • इस योजना की सफलता के लिए सरकार द्वारा व्यापक प्रचार प्रसार किया जाएगा। ड्रिप इरिगेशन सिस्टम खेत में लगाने पर 85% की सब्सिडी प्रदान की जाएगी। इसके लिए मेरा पानी मेरी विरासत योजना के कार्यान्वयन के लिए एक पोर्टल भी आरंभ किया जाएगा।

Mera Pani Meri Virasat Yojana Eligibility (पात्रता)

मेरा पानी मेरी विरासत योजना के लिए आवेदक को हरियाणा राज्य का मूल निवासी होना चाहिए। इसके साथ ही, इस योजना का लाभ 10 एकड़ से अधिक भूमि वाले किसानों को नहीं मिलेगा। इस योजना का लाभ केवल राज्य के किसानों को ही प्रदान किया जाएगा। आवेदक को इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए मूल पहचान प्रमाण जरूरी है।

Mera Pani Meri Virasat Yojana के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आधार कार्ड
  • पहचान पत्र
  • मोबाइल नंबर
  • बैंक अकाउंट पासबुक
  • कृषि योग्य भूमि के कागजात
  • पासपोर्ट साइज फोटो

Mera Pani Meri Virasat Yojana के तहत ऑनलाइन आवेदन करने की प्रक्रिया

सबसे पहले, आपको कृषि एवं किसान कल्याण विभाग हरियाणा की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, आपको वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए किसान पंजीकरण करें के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। होम पेज पर पहुंचते ही, आपको एक रजिस्ट्रेशन फॉर्म दिखाई देगा। इस फॉर्म में आपको अपनी जानकारी दर्ज करनी होगी, जैसे कि जिला, ब्लॉक, किसान का नाम, पिता या पति का नाम, माता का नाम, मोबाइल नंबर, आदि। सभी आवश्यक जानकारी को ध्यान से भरने के बाद, आपको फॉर्म में मांगे गए आवश्यक दस्तावेजों को अपलोड करना होगा। अब, आपको Submit ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इस प्रकार, आपका आवेदन पूरा हो जाएगा।

फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करने की प्रक्रिया

सबसे पहले, आपको कृषि एवं किसान कल्याण विभाग हरियाणा की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, आपको वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए ‘फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करें’ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। होम पेज पर पहुंचते ही, आपको एक नया पेज दिखेगा। इस पेज पर, आपको अपना आधार नंबर दर्ज करके ‘Nest’ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। क्लिक करते ही, आपके सामने रजिस्ट्रेशन फॉर्म खुल जाएगा। इस फॉर्म में आपको पूछी गई सभी आवश्यक जानकारी को ध्यानपूर्वक दर्ज करना होगा। सभी जानकारी दर्ज करने के बाद, आपको ‘Submit’ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इस प्रकार, आपका फसल विविधीकरण के लिए पंजीकरण करने का प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

Jharkhand Vaikalpik Kheti Yojana

विभागीय लॉगिन करने की प्रक्रिया

सबसे पहले, आपको कृषि एवं किसान कल्याण विभाग हरियाणा की आधिकारिक वेबसाइट पर जाना होगा। इसके बाद, आपको वेबसाइट के होम पेज पर जाने के लिए ‘विभागीय लॉगिन’ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। होम पेज पर पहुंचते ही, आपको विभागीय लॉगिन करने के लिए अपना यूजरनेम और पासवर्ड दर्ज करना होगा। इसके बाद, आपको दिए गए कैप्चा कोड को भी दर्ज करके ‘लॉगिन’ के ऑप्शन पर क्लिक करना होगा। इस प्रकार, आपकी विभागीय लॉगिन करने की प्रक्रिया पूरी हो जाएगी।

UP Patrakar Pension Yojana

Mera Pani Meri Virasat Yojana Related FAQs

मेरा पानी मेरी सहायता योजना की सहायता राशि कितनी है?

मेरा पानी मेरी सहायता योजना के तहत किसानों को 7000 रूपए की सहायता राशि प्रदान की जाएगी

Mera Pani Meri Virasat Yojana को किस राज्य द्वारा शुरू किया गया है?

मेरा पानी मेरी विरासत योजना को हरियाणा सरकार द्वारा शुरू किया गया है

Mera Pani Meri Virasat Yojana का लाभ कौन प्राप्त कर सकता है?

इस योजना का लाभ राज्य के सभी किसान प्राप्त कर सकते हैं।

हरियाणा सरकार द्वारा शुरू की गई मेरा पानी मेरी विरासत योजना का उद्देश्य क्या है?

मेरा पानी में विरासत योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य धान के स्थान पर वैकल्पिक फसलों के लिए प्रोत्साहित करना है। जिसके तहत किसानों को सरकार द्वारा प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी।

मेरा पानी मेरी विरासत से जुड़ा हेल्पलाइन नंबर क्या है?

हेल्पलाइन नंबर -1800-180-2117

Agriculture and Farmers Welfare Department

Krishi Bhawan, Sector 21, Panchkula

E-mail: agriharyana2009@gmail.com, psfcagrihry@gmail.com

Tel.: 0172-2571553, 2571544

Fax: 0172-2563242

किसान कॉल सेंटर –18001801551

Leave a Comment