Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024: ऑनलाइन आवेदन, लाभ, और पात्रता

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana:- भारत एक कृषि प्रधान देश है जिसमें किसानों के लाभ के लिए केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा विभिन्न योजनाएं चलाई जाती हैं। इसी क्रम में राजस्थान सरकार ने किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना शुरू की है। इस योजना के माध्यम से राज्य के उन किसानों को लाभ मिलेगा। खेती के दौरान दुर्घटना का शिकार होने वाले किसान या तो मर जाते हैं या आंशिक रूप से विकलांग हो जाते हैं। ऐसी स्थिति में प्रभावित किसानों को राजस्थान सरकार द्वारा वित्तीय सहायता का लाभ प्रदान किया जाएगा। ताकि वे आर्थिक सहायता प्राप्त कर सकें और बिना किसी आर्थिक समस्या के अपना इलाज करा सकें।

आज हम आपको इस लेख के माध्यम से मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना से संबंधित जानकारी प्रदान करेंगे जैसे मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना उद्देश्य लाभ और विशेषताएं पात्रता जरूरी दस्तावेज आवेदन प्रक्रिया आदि। राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना से संबंधित सभी जरूरी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आपसे गुजारिश है कि हमारे लेख को अंत तक पढ़ें।

MP Yuva Portal 

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana 2024

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी ने 2021-22 के वित्तीय वर्ष के बजट के दौरान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना की घोषणा की है, जिसका मुख्य उद्देश्य राजस्थान के किसानों को आर्थिक समर्थन प्रदान करना है। यदि कोई किसान खेती के क्षेत्र में दुर्घटना का सामना करता है, तो इस योजना के अंतर्गत उसे 5,000 से 2 लाख रुपए तक की आर्थिक सहायता मिलेगी। यह योजना राज्य सरकार द्वारा निर्धारित 5000 करोड़ रुपए के बजट के साथ शुरू की गई है। इसके लिए लाभार्थी को दुर्घटना होने के 6 महीने के भीतर आवेदन करना होगा।

UP Kaushal Satrang Yojana

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के बारे में जानकारी

योजना का नामMukhyamantri Krishak Sathi Yojana
आरंभ की गईराजस्थान सरकार द्वारा
विभागकृषि विभाग
लाभार्थीकृषि कार्य में दुर्घटनाग्रस्त हुए किसान
उद्देश्यदुर्घटना की स्थिति में किसानों को आर्थिक सहायता प्रदान करना
सहायता राशि5 हजार से लेकर 2 लाख रुपए
आवेदन प्रक्रियाऑफलाइन
अधिकारिक वेबसाइटwww.rajasthan.gov.in
योजना की गाइडलाइनराजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना गाइडलाइन

Haryana Antyodaya Parivar Utthan Yojana 

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana का उद्देश्य

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जी के नेतृत्व में, मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य है किसानों को खेती के दौरान होने वाली दुर्घटनाओं के समय आर्थिक सहायता प्रदान करना। इस योजना के तहत, अगर किसी किसान को कृषि के क्षेत्र में कोई दुर्घटना होती है, तो सरकार द्वारा 5,000 से लेकर 2 लाख रुपए तक की आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। यह आर्थिक सहायता किसानों को दुर्घटना के कारण होने वाली आर्थिक संघर्ष से निकालकर, उन्हें खुद को सुधारने और स्थिर करने का एक अवसर प्रदान करेगी। इससे किसान अपने इलाज का खर्च कर सकेंगे और उनके परिवार को भी आर्थिक समर्थन मिलेगा। यदि किसान की मृत्यु हो जाती है, तो उसके परिवार को भी आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी। जिससे कि परिवार का खर्चा चल सके। इस योजना के माध्यम से किसान तथा किसानों के परिवार को आत्मनिर्भर एवं सशक्त बनाना है।

Mukhyamantri Shram Yogi Pratibhavan Yojana

कृषक परिवारों की महिलाओं को बाटे जाएंगे निशुल्क बीज

राजस्थान सरकार द्वारा चलाई जा रही मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के अंतर्गत, कृषि परिवारों की महिलाओं को सशक्त बनाने और उन्हें कृषि क्षेत्र में सकारात्मक रूप से भागीदार बनाने का उद्देश्य है। इसके अंतर्गत, महिला किसानों को निशुल्क बीज की मिनीकिट प्रदान की जाएगी, जिससे कि वे अपने कृषि परियोजनाओं को सफलता की दिशा में बढ़ा सकें। इस योजना के अंतर्गत, सभी कृषि परिवारों की महिलाओं को मूंग, उड़द, सरसों, ज्वार, मोठ, जई, बाजरा जैसी अनेक फसलों के निशुल्क बीजों की मिनीकिट मुहैया कराई जाएगी। इससे महिला किसानें कृषि क्षेत्र में अधिक सक्रिय भूमिका निभा सकेंगी और उन्हें नई तकनीकों और उन्नत तकनीकी प्रणालियों का अध्ययन करने में मदद मिलेगी। इस पहल के माध्यम से, सरकार महिला किसानों को अपनी आत्मनिर्भरता में सहायक बनाने के लिए कदम उठा रही है, जिससे कृषि सेक्टर में गुणवत्ता बढ़ेगी और उसमें जेंडर परिसंघटन का स्तर भी उच्च होगा।

UP Sadhu Pension Yojana 

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana का लाभ निम्न परिस्थितियों में दिया जाएगा

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत किसानों को कृषि कार्यों में होने वाली दुर्घटनाओं पर आर्थिक सहायता प्रदान करने के लिए एक कार्यक्रम है। यदि किसान किसी कृषि यंत्र का उपयोग करते हुए या किसी अन्य कृषि क्रिया के दौरान दुर्घटना में मर जाता है, तो उसके परिवार को योजना के अंतर्गत लाभ प्राप्त हो सकता है। योजना के अंतर्गत कुआं खोदते, ट्यूबवेल स्थापित करते, और सिंचाई करते समय होने वाली दुर्घटनाओं का भी समर्थन किया जाएगा। अगर किसान इस प्रकार की दुर्घटना में मर जाता है, तो उसके परिवार को आर्थिक मदद दी जाएगी। इसके अलावा, खेतों में फसलों को रासायनिक दवाइयों से सिंचाई करते समय या मंडी में बोरियों को धान लगाते हुए हुई दुर्घटनाओं, जहरीले सांपों या जानवरों के काटने, या आकाशीय बिजली गिरने पर भी किसानों को सहायता प्रदान की जाएगी।

Indian Air Force Join Kaise Kare

परिस्थिति अनुसार आर्थिक सहायता की जानकारी

परिस्थितिआर्थिक सहायता
मृत्यु₹200000
2 अंगों में विकलांगता (या तो 2 हाथ या 2 पैर या 2 आंख या 1 हाथ और 1 पैर)₹50000
रीड की हड्डी का टूटना, सिर की चोट के कारण कोमा में जाना₹50000
पुरुष या महिला के सिर के पूरे हिस्से के बालों की डी स्कैल्पइंग₹40000
पुरुष या महिला के सर के कुछ हिस्से के बालों की डी स्कैल्पइंग₹25000
1 अंग में विकलांगता ( या हाथ या पैर या आंख या टखना)₹25000
यदि 4 उंगलियां कट जाती हैं₹20000
यदि 3 उंगलियां कट जाती हैं₹15000
यदि 2 उंगलियां कट जाती है₹10000
यदि 1 उंगली कट जाती है₹5000
दुर्घटना के कारण फ्रैक्चर5000

Odisha Balaram Yojana 

मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लाभ एवं विशेषताएं

  • राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना शुरू की है।
  • इस योजना के तहत यदि किसान की खेती के दौरान मृत्यु हो जाती है या किसी प्रकार की विकलांगता का शिकार हो जाता है तो सरकार द्वारा वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
  • राज्य सरकार द्वारा 5 हजार से 2 लाख रूपये तक की धनराशि आर्थिक सहायता के रूप में प्रदान की जायेगी।
  • इस योजना के तहत यदि किसान की मृत्यु हो जाती है तो आवेदक किसान का उत्तराधिकारी होगा। और यदि किसान विकलांग हो जाता है तो ऐसी स्थिति में आवेदक स्वयं विकलांग किसान होगा।
  • मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ पाने के लिए किसान को संबंधित विभाग में ऑफलाइन आवेदन करना होगा।
  • इस योजना के तहत किसान को दुर्घटना के 6 महीने के भीतर आवेदन पत्र जमा करना होता है।
  • सरकार द्वारा दी जाने वाली इस राशि से किसान अपना इलाज करा सकते हैं.
  • इसके अलावा किसानों को दुर्घटना के कारण होने वाली आर्थिक तंगी में भी मदद मिलेगी.
  • इस योजना के अंतर्गत आत्महत्या या प्राकृतिक मृत्यु को कवर नहीं किया गया है।
  • योजना के संचालन के लिए राज्य सरकार द्वारा 5000 करोड़ रुपये का बजट निर्धारित किया गया है।
  • इस योजना के तहत आर्थिक सहायता मिलने से किसानों के जीवन स्तर में सुधार आएगा।
  • यह योजना किसानों को सशक्त बनाएगी और उन्हें आत्मनिर्भर बनाएगी।

SECC 2011 Data List 

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के लिए पात्रता

  • मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ उठाने के लिए आवेदक को राजस्थान का मूल निवासी होना चाहिए।
  • इस योजना के अंतर्गत केवल राज्य के किसान ही आवेदन करने के पात्र होंगे।
  • यदि खेती के दौरान किसान की मृत्यु या विकलांगता हो जाती है तो वह इस योजना के लिए पात्र होगा।
  • आवेदक की आयु 18 से 70 वर्ष के बीच होनी चाहिए।
  • यदि किसान की मृत्यु हो जाती है तो ऐसी स्थिति में अनुदान राशि किसान की पत्नी या बच्चों को दी जाएगी।
  • यदि किसान ने आत्महत्या की है तो वह इस योजना के लिए पात्र नहीं होगा।
  • आवेदक का बैंक खाता आधार कार्ड से लिंक होना चाहिए।

Balika Shikha Protsahan Yojana 

राजस्थान मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • आवेदक किसान का जन्म प्रमाण पत्र
  • भूमि से संबंधित समस्त विवरण
  • दुर्घटनाग्रस्त में हुई विकलांगता का प्रमाण पत्र
  • कृषि गतिविधियों में आकस्मिक रूप से हुए मृत्यु का प्रमाण पत्र
  • पुलिस पूछताछ रिपोर्ट
  • आवेदन फॉर्म
  • सब डिवीजनल मजिस्ट्रेट की केस स्वीकृति रिपोर्ट
  • अन्य सभी दस्तावेज जैसे आधार कार्ड, वोटर कार्ड, स्थाई निवास प्रमाण पत्र
  • बैंक अकाउंट विवरण

Karnataka Arivu Education Loan Scheme 

Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के तहत आवेदन करने की प्रक्रिया

  • मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए सबसे पहले आपको अपने नजदीकी कृषि विभाग कार्यालय जाना होगा।
  • वहां जाकर आपको मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत आवेदन करने के लिए आवेदन फॉर्म प्राप्त करना होगा।
  • आवेदन फॉर्म प्राप्त करने के बाद आपको फॉर्म में पूछी गई सभी आवश्यक जानकारी जैसे आपका नाम, पता, जिला, ग्राम दुर्घटना विवरण, मोबाइल नंबर आदि दर्ज करना होगा।
  • सभी जानकारी दर्ज करने के बाद आपको मांगे गए दस्तावेजों को फॉर्म के साथ संलग्न करना होगा।
  • अब आपको आवेदन फॉर्म कृषि विभाग के अधिकारी के पास जमा कर देना होगा।
  • इसके बाद आपके द्वारा किए गए आवेदन फॉर्म का सत्यापन किया जाएगा।
  • सत्यापन होने के बाद आपके बैंक खाते में सहायता राशि पहुंचा दी जाएगी।
  • इस प्रकार आप आसानी से Mukhyamantri Krishak Sathi Yojana के तहत ऑफलाइन आवेदन कर सकते हैं।

Leave a Comment